सितम्बर माह की शुरुआत हो चुकी है, यह महीना बहुत ही सब्जी की खेती के लिए काफी लाभकारी माना जाता है। अगर माह के शुरुआत में ही आपको सब्जी और उसमें लगने वाले रोगों और कीटों की जानकारी मिल जाये तो यह काफी फायदेमंद होगा।  बता दें उत्तर भारत में सितंबर माह में तापमान लगभग 25 से 35 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहता है,  इसलिए यह मौसम सब्जियों की खेती के लिए अच्छा माना जाता है। इस लेख में हम आपको उन सब्जियों की खेती के बारे में बताएंगे, जिन्हें आप सितंबर महीने में उगा सकते हैं और इससे अच्छा लाभ कमा सकते हैं। इसके साथ ही आपको हम इस ब्लॉग में यह भी जानकारी देंगे कि इन सब्जियों में कौन से रोग लग सकते है और उनसे बचने के उपाय क्या है। Best Quality Agrochemicals

 आप यह ब्लॉग GEEKEN CHEMICALS के माध्यम से पढ़ रहें है।  GEEKEN CHEMICALS लगातार कई वर्षों से किसान के फसल की सुरक्षा के लिए काम कर रहा है। आप हमारे माध्यम से अपने फसलों में लगने वाले कीट , रोग , को खत्म कर अपनी उत्पादन क्षमता को बढ़ा सकते है। GEEKEN CHEMICALS के कीटनाशक आज भारत के सभी राज्यों में आसानी से उपलब्ध है। Best Quality Agrochemicals Products आप अपने नजदीकी स्टोर से जाकर इसे प्राप्त कर सकते है।     

 आइये अब हम आपको बताते है कि सितम्बर में किन सब्जियों की खेती करना फायदेमंद होता है। 

top quality agrochemicals in india

top quality agrochemicals in india

 शिमला मिर्च की खेती (Capsicum Cultivation)

 सितम्बर माह शिमला मिर्च की खेती के लिए अच्छा माना जाता है। इसकी खेती कर किसान अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं. इसमें कई प्रकार के पोषक तत्त्व पाए जाते हैं, जो हमारी सेहत के लिए लाभदायक होते हैं.

 मेथी की खेती (Fenugreek Cultivation)

 जाड़े के मौसम में मेथी का साग, मेथी का पराठा और मेथी की पूरी का अलग ही मज़ा है। घर पर मौजूद मसालों में प्रयोग होने वाली मेथी के दानों से भी मेथी उगाया जा सकता है. बीज लगाने के कुछ ही दिनों बाद आपको पत्तियां प्राप्त हो जाएंगी।

 मूली की खेती (Radish Cultivation)

मूली की जड़ तथा पत्तियां दोनों लोगों के द्वारा बड़े चाव से खाई जाती है। इसके सेवन से बवासीर जैसी बीमारी से निजात मिलती है. बुवाई के बाद से इसकी फसल की 3 – 4 सप्ताह में तैयार हो जाती है।

पालक की खेती (Spinach Cultivation)

 पालक आयरन का सबसे अच्छा स्रोत होता है. इसकी 3 से 4 सप्ताह में ही इसकी पत्तियां तोड़ने लायक हो जाती है। इसके खेती कर किसान अच्छा मुनाफ प्राप्त कर सकते हैं।

 बैंगन की खेती (Brinjal Cultivation )

 देश में बैंगन आलू के बाद दूसरी सबसे अधिक खपत वाली सब्जी फसल है। विश्व में चीन के बाद भारत बैंगन की दूसरी सबसे अधिक पैदावार वाला देश है। बैगन की खेती कर किसान भाई अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। इसकी बुवाई खेत की जलवायु के अनुसार की जाती है।

 लौकी की खेती (Bottle Gourd Cultivation )

 ताजगी से भरपूर एवं सेहत के लिए ख़ास मानी गई लौकी एक कद्दूवर्गीय खास सब्जी है. इसे बहुत तरह के व्यंजन जैसे- रायता, कोफ्ता, हलवा व खीर वगैरह बनाने के लिए भी इस्तेमाल करते हैं. यह कब्ज को कम करने, पेट को साफ करने, खांसी या बलगम दूर करने में बहुत फायदेमंद है। इस के मुलायम फलों में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट व खनिज लवण के अलावा, प्रचुर मात्रा में विटामिन पाए जाते हैं।

 सब्जियों में लगनें वाले प्रमुख रोग 

top quality crops protection

top quality crops protection

 पाउडरी मिल्ड्यू या चिट्टा रोग

इस रोग से पत्तों, तनों और पौधों के दूसरे भागों पर फफूंदी की सफेद आटे जैसी तह जम जाती है. यह रोग खुश्क मौसम में ज्यादा लगता है. फल का गुण व स्वाद खराब हो जाता है।

 एन्थ्रेक्नोज व स्कैब

इस रोग से लौकी, घीया, तोरई समेत अन्य बेल वाली सब्जियों के पत्तों व फलों पर धब्बे पड़ जाते हैं, सात ही अधिक नमी वाले मौसम में इन धब्बों पर गोद जैसा पदार्थ दिखाई देता है।

 डाऊनी मिल्ड्यू

 पत्तों की ऊपरी सतह पर पीले या नारंगी रंग के कोणदार धब्बे बनते हैं, जो कि शिराओं के बीच सीमित रहते हैं। नमी वाले मौसम में इन्हीं धब्बों पर पत्तों की निचली सतह पर सफेद या हल्के-बैंगनी रंग का पाऊडर दिखाई देता है। इस बीमारी का प्रकोप बढ़ने पर पत्ते सूख जाते हैं औप पौधा नष्ट हो जाता है।

 मोजैक रोग

 इस रोग से प्रभावित पौधों के पत्ते पीले व कहीं से हरे दिखाई देते हैं. इससे फसल की पैदावार बहुत कम मिलती है। यह सब्जियों को पूरी तरह से ख़त्म कर देता है। 

 सब्जियों को रोग से कैसे बचाएं 

  किसान भाइयों अगर आपके सब्जी में इस तरह के लक्षण दिखाई पड़ रहें है तो आपको घबरानें की जरुरत नहीं है।  GEEKEN CHEMICALS के द्वारा बनें हुए कीटनाशक का प्रयोग करके हम इन रोग को आसानी से ख़त्म कर सकते है।  हम लगातार सब्जियों की अच्छी गुणवत्ता के लिए अलग – अलग तरह का कीटनाशक लेकर आ रहें है।  हमारे कीटनाशक आपको अपने नजदीकी स्टोर में आसानी से मिल जायेंगे।  आप इसके बारें में अत्यधिक जानकारी के लिए हमारे दिल्ली स्थित ऑफिस में भी आ सकते है।