IMG-20211009-WA0003-removebg-preview-1.png

भारत को प्राचीन काल से ही कृषि प्रधान देश के रूप में जाना जाता है। अलग -अलग राज्यों से मिलकर बना यह देश अपने आप में एक खूबसूरती का मिसाल है। इस देश को खूबसूरत बनाती है, यहाँ पर की जानें वाली खेती। अलग – अलग राज्य होने के कारण यहाँ खेती भी अलग तरीके से और अलग मौसम में की जाती है। इसलिए आज के इस ब्लॉग में हम लेकर आए है खेती से जुडी हुई एक ऐसी ही जानकारी ,जिसके माध्यम से आप यह जान सकते है कौन से राज्य में कौन सी फसल उगाई जाती है। भारत के कई राज्य है जो पूर्णतः कृषि पर ही काम करते है। अगर किसान किसी भी फसल के बारें में अच्छे से जानकारी हांसिल कर लें तो अच्छा मुनाफा कमा सकते है। आज हम आपको इस ब्लॉग के माध्यम से देश के टॉप 10 कृषि राज्यों के बारें में जानकारी प्रदान कर रहें है।

आप यह ब्लॉग GEEKEN CHEMICALS के माध्यम से पढ़ रहें है। GEEKEN CHEMICALS लगातार कई वर्षों से कीटनाशक बनाता आरहा है। आप GEEKEN के द्वारा बनें कीटनाशक का प्रयोग करके अपने फसल में लगने वालें , कीड़े , सुंडी , रोग, खरपतवार , इत्यादि को आसानी से ख़त्म कर सकते है। आप हमारे कीटनाशक को खरीदने के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीका आजमा सकते है। जीकेन केमिकल्स BEST  Pesticide manufacturing company in India में से एक है।

Contents

उत्तरप्रदेश

दोस्तों उत्तर प्रदेश को हम उत्तम प्रदेश के नाम से भी जानते है। प्राचीन काल से ही यह राज्य खेती में काफी अग्रणी रहा है। उत्तर प्रदेश भारत का सबसे बड़ा कृषि राज्य में से एक है। इस राज्य में सबसे ज्यादा गन्ना और गेहू की खेती की जाती है। चावल की खेती भी यहाँ बहुत बड़े हिस्से में की जाती है। इस देश को कृषि राज्य इस लिए माना जाता है क्योंकि यहां दक्षिण पश्चिम मानसून, उत्तर पूर्व मानसून और थोड़ा पश्चिमी विक्षोभ से बारिश होती है। उत्तर प्रदेश में तीनों प्रकार की फसलों की खेती की जाती है। सरकार भी लगातार बढ़ावा देने के लिए इस राज्य में अलग – अलग तरह की योजनाएं ला रही है।

यह भी पढ़ेंः  मिर्च की खेती करने से होगा जबरदस्त मुनाफा , जानिए मिर्च की खेती करने की विधि

उत्तर प्रदेश में उगाई जानें वाली प्रमुख फसलें

गन्ना, सब्जी, मशरूम, चावल

पंजाब

पंजाब एक ऐसा राज्य है जहां अत्याधुनिक तरीके से खेती की जाती है। पंजाब कृषि उत्पादन की दृष्टि से दूसरा सबसे बड़ा राज्य है। पंजाब में सबसे ज्यादा खाद्यान्न फसलों का उत्पादन किया जाता है। इसमें गेहूं, गन्ना, कपास प्रमुख है। खरीफ के मौसम में इन तीनो फसलों की खेती की जाती है। यह राज्य सिंचित राज्यों में से एक है। पंजाब राजय देश का सबसे अच्छा सिंचित राज्य में से एक है। यहाँ की भूमि समतल है जिसकी वजह से व्यापक मात्रा में खेती की जाती है। पंजाब में कृषि सिचाई के लिए अलग – अलग तरह की नहरें है , जिसके माध्यम से किसान अपने फसलों की सिचाई करते है।

पंजाब की प्रमुख फसलें

गेहूं, चावल, मक्का, जौ

हरियाणा

पंजाब का पड़ोसी राज्य हरियाणा इस समय कृषि की दृष्टि से तीसरे स्थान पर है। कृषि दृष्टि से देखा जाए तो हरियाणा सबसे समृद्ध राज्यों में से एक है। इस राज्य में सबसे ज्यादा गेहूं और चावल की खेती की जाती है। इस राज्य में 65% जनसँख्या खेती पर ही निर्भर है। पिछले कुछ समय से सकल कृषि उत्पादन इससे कहीं अधिक है। मुख्य फसलों का उत्पादन भी पहले से काफी ज्यादा बढ़ गया है। अगर इस राज्य के मुख्य फसलों की बात करूँ तो उनमें चावल, गेहूं, ज्वार, बाजरा, मक्का, जौ, गन्ना, कपास दलहन, तिलहन और आलू की खेती प्रमुखता से की जाती है। वहीँ नगदी फसल के रूप में किसान न्ना, कपास, तिलहन और सब्जियों तथा फलों का उत्पादन काफी बड़े क्षेत्रों में कर रहें है। केंद्र की सरकार और राज्य की सरकार लगातार खेती को बढ़ावा देने के लिए काम कर रही है।

प्रमुख फसलें

चावल, गेहूं, बाजरा, आलू

पश्चिम बंगाल

पश्चिम बंगाल देश में कृषि के मायनें में चौथे स्थान पर है। यहां का प्रमुख उत्पादन चावल , जूट , तिल तम्बाकू के अलावा चाय का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है। इस राज्य में प्रमुख फसल की खेती सबसे ज्यादा की जाती है और इसका नेटवर्क भी बहुत बड़ा है। चीन के बाद भारत सबसे ज्यादा चावल का उत्पादन करने वाला देश है जिसमें पश्चिम बंगाल राज्य प्रमुख है। पश्चिम बंगाल में जूट और तम्बाकू की खेती भी काफी बड़े हिस्से में की जाती है।

प्रमुख फसलें

जूट, तिल, धान

ओडिशा

ओडिशा भी सभी राज्यों की तरह कृषि के क्षेत्र में अपना एक अलग ही स्थान रखता है। इस राज्य की 60 % आबादी खेती पर ही निर्भर है। यहाँ की जलवायु और मिट्टी कृषि के क्षेत्र में अहम भूमिका निभाती है। इस राज्य में सबसे ज्यादा चावल, जूट, गन्ना, तंबाकू, रबर, चाय, कॉफी आदि चीजों की खेती की जाती है। यहाँ के किसान सबसे ज्यादा बारिश पर निर्भर है।

प्रमुख फसलें

तंबाकू, रबर, जूट

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh)

मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा दलहनी फसलों की खेती की जाती है। कृषि एक्सपर्ट की मानें तो देश के कुल 16 में से 11 कृषि जवायु मध्य प्रदेश में ही स्थित है। यहाँ के मिटटी की संरचना और जलवायु में काफी विविधता है। इस राज्य में सभी प्रकार की सब्जियां , फल , मसाले , औषधि की खेती किया जाता है। इसके अलावा यहां के किसान हरी मटर, आलू, प्याज, टमाटर और मसालों के साथ धनिया, मिर्च और लहसुन की खेती भी बड़े भू – भाग में करते है। भारत की सरकार लगातार इस राज्य के किसान भाइयों के लिए अलग – अलग तरह की कृषि योजनाएं ला रही है। जिसके माध्यम से किसान खेती करके अच्छा पैसा कमा सकते है। यहाँ पर आय का प्रमुख स्रोत गेहू , दाल ,और मक्का है। अगर हम प्रमुख फसलों की बात करें तो उड़द, सोयाबीन और अरहर की खेती प्रमुखता से की जाती है। भारत में मध्य प्रदेश सबसे बड़ा क्षेत्रफल वाला राज्य है।

प्रमुख फसलें

गेहूं, सोयाबीन, मक्का, दाल

छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा चावल की खेती की जाती है। इसलिए इस राज्य को हम मध्य भारत के “चावल का कटोरा” भी कहते है। यह भारत के सबसे बड़े कृषि उत्पादक राज्यों में से एक है। छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा चावल, मक्का और कुछ अन्य बाजरा जैसे तिलहन, और मूंगफली की खेती की जाती है। यहाँ चावल की खेती एक बड़े भू – भाग में की जाती है। अगर हम चावल की बात करें तो चावल पूरे क्षेत्र में लगभग 77 प्रतिशत भाग में बोया जाता है। यहाँ के किसान चावल की खेती करके अच्छा धनोपार्जन कर लेते है। यह राज्य पानी के लिए पूर्णतः बारिश पर निर्भर है क्योंकि राज्य के कुल क्षेत्रफल का केवल 20 प्रतिशत ही सिंचाई के अधीन है।

प्रमुख फसलें

गेहूं, चावल, मक्का, मूंगफली

आंध्रप्रदेश

आंध्र प्रदेश में भी काफी बड़ी मात्रा में खेती की जाती है। यहाँ की कुल आबादी के लगभग 62 प्रतिशत लोग कृषि पर ही निर्भर है। यहाँ के लोग चावल का सेवन ज्यादा करते है इसलिए चावल की खेती भी काफी बड़ी मात्रा में की जाती है। आंध्र प्रदेश की बात करें तो यहाँ पर बाजरा, ज्वार, मक्का, छोटे बाजरा, रागी, दालें, तंबाकू, अरंडी कपास और गन्ना की खेती भी काफी बड़े भू भाग में की जाती है। भारत की सरकार आंध्र प्रदेश जैसे राज्यों को बढ़ावा देने के लिए अलग – अलग तरह का स्किम लाकर लोगों को खेती के प्रति जागरूक कर रही है।

प्रमुख फसलें

बाजरा, ज्वार, मक्का, तंबाकू

गुजरात

गुजरात भी सभी राज्यों की तरह अपना एक अलग ही स्थान रखता है। इस राज्य के लोगों ने पहले उद्योग को बढाकर अब कृषि को बढ़ावा दे रहें है। यहाँ का मौसम जलवायु परिवर्तनशील है इसलिए यहां पर फसलों का उत्पादन करना काफी मुश्किल है। उच्च उपज के लिए उन्नत प्रबंधन के द्वारा किसान यहाँ पर बेहतर तरीके से खेती कर सकते है। इस राज्य में सबसे ज्यादा कपास, मूंगफली, अरंडी, बाजरा, अरहर, हरे चने, तिल, धान, मक्का और गन्ने का उत्पादन किया जाता है। भारत के पीएम लगातार इस राज्य के किसानों के किसानो को खेती की तरफ आगे बढ़ने के लिए अलग – अलग तरह की योजनाएं ला रहें है।

प्रमुख फसलें

कपास, मूंगफली, हरे चने, तिल

महाराष्ट्र

महाराष्ट्र कृषि में अग्रणी राज्य है। राज्य में उगाई जाने वाली प्रमुख फसलें चावल, ज्वार, बाजरा, गेहूं, अरहर, मूंग, उड़द, चना और अन्य दालें हैं। राज्य तिलहन का प्रमुख उत्पादक है। मूंगफली, सूरजमुखी, सोयाबीन प्रमुख तिलहन फसलें हैं। महत्वपूर्ण नकदी फसलें कपास, गन्ना, हल्दी और सब्जियां हैं। राज्य प्याज उत्पादन में देश में अग्रणी है। विभिन्न प्रकार की मिट्टी, विविध कृषि जलवायु परिस्थितियाँ, पर्याप्त तकनीकी जनशक्ति, अच्छी तरह से विकसित संचार सुविधाएँ, ड्रिप सिंचाई में बढ़ती प्रवृत्ति, ग्रीन हाउस, कूल चेन सुविधाओं का उपयोग और जीवंत किसान संगठन राज्य में विभिन्न बागवानी फसलों को उगाने के व्यापक अवसर प्रदान करते हैं।

यह आज देश में एक महत्वपूर्ण बागवानी राज्य के रूप में उभर रहा है। राज्य में आम, केला, संतरा, अंगूर, काजू आदि विभिन्न फल फसलों के तहत 13.66 लाख हेक्टेयर क्षेत्र है।

यह भी पढ़ेंः जानिए फसलें कितने प्रकार की होती है और कैसे की जाती है उनकी खेती

निष्कर्ष

तो यह थे देश के प्रमुख राज्य जहाँ अलग – अलग मौसम में अलग तरह की कहती की जाती है। आशा है कि किसान भाइयों को हमारा यह ब्लॉग पसंद आया होगा। किसान भाई हमारे इस ब्लॉग को शेयर जरूर करें , जिससे और भी किसान जागरूक हो सकें। GEEKEN CHEMICALS कृषि की जानकारी के साथ – साथ कई तरह के कीटनाशक का उत्पादन भी करता है जिसका प्रयोग करके किसान अपने फसल में लगने वाले हानिकारक कीटों , रोगों , खरपतवार को खत्म कर सकते है। जीकेन केमिकल्स BEST Pesticide manufacturing company in Uttar Pradesh में से एक है। आप हमारे कैमिकल को खरीदनें के लिए हमें कॉल (+91 – 9999570297) भी कर सकते है।