IMG-20211009-WA0003-removebg-preview-1.png

भारत में खेती के लिए अक्टूबर का महीना सबसे बेस्ट माना जाता है।  इस महीने में हम अपने खरीफ की फसल की कटाई करते है और रबी की फसल की बुवाई करते है।  अगर किसान अपने खेत की मिट्टी, पानी की उपलब्धता, इलाके का मौसम और सरकारी नीतियों को ध्यान में रखकर खेती का कार्य करें तो ज्यादा मुनाफा कमा सकता है। GEEKEN CHEMICALS के द्वारा आप अक्टूबर महीने में की जानें वाली खेती के बारें में जानेंगे साथ ही हम यह भी बताएँगे की कैसे आप इन फसल को कीटों से बचा सकते है। किसान भाई अक्टूबर माह में अरहर, मूंगफली, शीतकालीन मक्का, शरदकालीन गन्ना, तोरिया, राई सरसों, चना, मटर, बरसीम, गेहूं, जौ आदि फसलों की बुवाई अपने खेतों में कर सकता है। निचे हम आपको अक्टूबर महीने में की जानें वाली 5 प्रमुख खेती के बारें में बताएंगे।

और पढ़े-: बुवाई से पहले कैसे करें बीजों का चुनाव , जिससे होगी अत्यधिक पैदावार

Contents

 गेहूं की खेती

हमारे देश में गेहूं की पैदावार चावल के बाद सबसे ज्यादा होती है।  पंजाब हरियाणा और उत्तर प्रदेश गेहू का उत्पादन करने वाले प्रमुख राज्य है।  भारत में आज देखा जाये तो 8 टन से ज्यादा गेहूं का उत्पादन होता है। हालांकि, देश की बढ़ती जनसंख्या को देखते हुए गेहूं उत्पादन में वृद्धि की और अधिक आवश्यकता है| इसके लिए गेहूं की उन्नत उत्पादन तकनीकियों को अपनाने की आवश्यकता है| इन तकनीकियों में किस्मों का चुनाव, बोने की विधियां, बीज दर, पोषक तत्व प्रबंधन, सिंचाई प्रबन्धन, खरपतवार नियन्त्रण तथा फसल संरक्षण आदि प्रमुख है|  आप अगर ऑक्टूबर महीने में गेहूं की बुवाई करते है तो यह आपके फसल के लिए बहुत ही फायदेमंद होगा। 

 उत्तर-पश्चिमी मैदानी क्षेत्रों में सिंचित दशा में गेहूं बोने का उपयुक्त समय नवम्बर का प्रथम पखवाड़ा है| लेकिन उत्तरी-पूर्वी भागों में मध्य अक्टूबर  तक गेहूं बोया जा सकता है| देर से बोने के लिए उत्तर-पश्चिमी मैदानों में 25 नवम्बर के बाद तथा उत्तर-पूर्वी मैदानों में 15 दिसम्बर के बाद गेहूं की बुवाई करने से उपज में भारी हानि होती है| इसी प्रकार बारानी क्षेत्रों में अक्टूबर के अन्तिम सप्ताह से नवम्बर के प्रथम सप्ताह तक बुवाई करना उत्तम रहता है| यदि भूमि की ऊपरी सतह में संरक्षित प्रचुर मात्रा में होतो इसकी खेती नवम्बर तक कर सकते है।

 आलू की खेती 

आलू की खेती को हम अक्टूबर महीने में करना शुरू करते है।  इसकी खेती के लिए पहले अच्छे से जुताई करना चाहिए जिसके बाद खेत में हमें खाद को डालना चाहिए। खेतों में खाद के लिए हमारे पास 15 से 20 दिन का समय होना चाहिए जिसके बाद हम इसकी बुवाई अच्छे से कर सकते है। आलू की अगेती किस्म कुफरी अशोका, कुफरी चन्द्रमुखी, कुफरी जवाहर की बुवाई 10 अक्टूबर तक करनी चाहिए। मध्य एवं पिछेती किस्म कुफरी बादशाह, कुफरी सतलज, कुफरी पुखराज, कुफरी लालिमा की बुवाई 15-25 अक्टूबर तक करनी चाहिए। अगर आप इस महीने में आलू की खेती करते है तो , बहुत ही फायदेमंद होगा और आप अच्छा पैसा भी कमा सकते है।  आलू की खेती के बाद इसमें रोग लगने लगते है इसलिए आप GEEKEN CHEMICALS के Best Agrochemical Products  का प्रयोग कर इन कीटो से अपनी फसलों को बचा सकते है।

 मटर की खेती 

मटर की बुवाई के लिए अक्टूबर का महीना सबसे अच्छा होता है।  इसके लिए आप प्रति हेक्टेयर 120-150 KG मटर का प्रयोग कर सकते है। पिछेती किस्मों के लिए 80-100 किग्रा बीज का प्रयोग करें।मटर के बीज अगेती और पछेती क़िस्मों के आधार पर अलग-अलग समय पर लगाए जाते है | अगेती क़िस्म की रोपाई के लिए अक्टूबर से नवंबर का महीना सबसे उपयुक्त माना जाता है, जबकि पछेती क़िस्मों के लिए बीज की रोपाई नवंबर माह के अंत में की जाती है। इस महीने में अगर आप मटर की खेती करते है तो बहुत ही फायदेमंद होगा। अक्सर देखा गया है कि इस महीने में मटर की खेती करने पर पैदावार अधिक होती है और इसमें रोग का प्रकोप भी कम होता है। 

 मक्का की खेती 

किसानों को ठंडी में मक्के की बुवाई के लिए अक्टूबर का महीना सबसे अच्छा मन जाता है।  इसकी फसल अप्रैल से लेकर मई महीने तक तैयार हो जाती है।  इसकी खेती में बीमारियां भी कम लगती है और पैदावार भी अधिक होती है।  मक्के के बीजो की रोपाई को वर्ष में अलग-अलग ऋतुओ में की जा सकती है | यदि आप चाहे तो इसके बीजो को मार्च के अंत में फिर से बो सकते है।  लेकिन कृषि वैज्ञानिक की मानें तो अक्टूबर में अगर आप मक्का की खेती करते है तो बहुत ही फायदेमंद होगा और पैदावार भी अधिक होगी।  इसलिए हमेशा अक्टूबर में ही मक्का की खेती करनी चाहिए।

 गन्ना की खेती 

गन्ने की खेती के लिए अक्टूबर का महीना सबसे अच्छा होता है।  इसकी खेती के लिए पिछले साल बोए हुए गन्ने से ही हम बीज को प्राप्त कर सकते है।  गन्ने की बुवाई के लिए किसानों को दूसरे पखवाड़े का इंतजार नहीं करना चाहिए। क्योंकि पहले पखवाड़े के बाद सर्दी बढऩे लगती है। यह मौसम गन्ने की बुवाई के लिए उचित नहीं है। किसानों को बीज के उपचार के बाद ही बुवाई करनी चाहिए। गन्ने की फसल उगाने से पहले खेत को अच्छी तरह से तैयार कर लिया जाता है | इसके लिए सबसे पहले खेत की गहरी जुताई कर दी जाती है | इससे खेत में मौजूद पुरानी फसल के अवशेष पूरी तरह से नष्ट हो जाते है |

और पढ़े-:जानिए कैसे करें गेहूं की उत्तम खेती और GEE SUPER (Sulphur 80% WDG) कैसे करता है काम

 निष्कर्ष    

इसके अलावा किसान भाई शिमला मिर्च, टमाटर, प्याज, लहसुन आदि की बुवाई भी अक्टूबर माह में कर सकते हैं। इस पोस्ट में आपको अक्टूबर माह के कृषि कार्य, अक्टूबर kheti / October Vegetables आदि के बारे में जानकारी दी गई है। उम्मीद है आपको जरूर पसंद आई होगी। इसी प्रकार की पोस्ट के लिए आप GEEKEN CHEMICALS के साथ जुड़े रहें।  हम आप तक खेती से जुडी ब्लॉग इसी तरह से लातें रहेंगे।