IMG-20211009-WA0003-removebg-preview-1.png

बुवाई का समय हर राज्यों में शुरू हो चूका है।  बरसात भी अब धीरे – धीरे कम हो रही है।  किसान भी अपने खेतों को बेहतरीन तरीके से बनाने में जुटे हुए है।  लेकिन एक किसान को बेहतर फसल उत्पादन के लिए अच्छे बीज का चुनाव करना जरुरी है। जिससे न सिर्फ अच्छे बीज से आप उत्पादन क्षमता को बढ़ा सकते है बल्कि खेतों में लगने वाले खरपतवार को भी कम कर सकते है। किसान भाइयों को बीज का चुनाव करते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान देना चाहिए।

Contents

बुवाई से पहले बीज की अच्छे से तैयारी

किसान भाइयों को बुवाई से पहले अपने बीजों को अच्छे से तैयार करना चाहिए।  अगर हो सकें तो बुवाई से पहले भी खेत में खाद का प्रयोग करें।  इससे पौधों को मजबूती मिलती है और मिट्टी बेहतर पोषण सोखने में मदद करती है।  यह अंकुरण और प्रारंभिक विकास के चरण समय आने वाले खतरों के खिलाफ भी टीके का काम करती है।  ऐसे चीजों का उपयोग करके एक अच्छी  फसल का उत्पादन किया जा सकता है।

और पढ़े-: खेतों की देखभाल कैसे करें और मरते हुए पौधे और फसल को कैसे बचाएं

1. प्रजनक बीज

यह बीज बिलकुल अलग तरह का बीज होता है , जो प्रजनक अथवा पादक प्रजनक के द्वारा उत्पादित किया जाता है।  जिसकी अनुवांशिकी और गुणवत्ता का विशेष ध्यान दिया जाता है।  यह आधारीय बीज के उत्पादन का स्रोत होता है.इस बीज के थैलों पर सुनहरा पीला (गोल्डन) रंग का टैग  लगाया जाता है, जिसे सम्बन्धित अभिजनक द्वारा जारी किया जाता है।

2. आधारीय बीज

अगर हम आधारीय बीज की बात करें तो आवश्यकतानुसार आधारीय प्रथम से आधारीय द्वितीय बीज का उत्पादन किया है.इसकी उत्पादन, संसाधन, पैकिंग, रसायन उपचार एवं लेबलिंग आदि प्रक्रिया बीज की अच्छे से देखभाल करने के लिए किया जाता है।  इनके थैले में लगने वाले टैग का रंग भी सफ़ेद होता है।

3. प्रमाणित बीज

किसान भाइयों को फसल के उत्पादन के लिए बेचे जाने वाले बीज को हम प्रमाणित बीज कहते है।  जिसका उत्पादन आधारीय बीज से बीज प्रमाणीकरण संस्था की देख रेख में होता है।  इसके टैग का रंग नीला होता है।

कीटों का प्रबंधन

महामारी और कीटों के हमले को रोकने के लिए हमें समय समय पर कीट का पता लगाना जरुरी है।  अगर आप किसी फसल की बुवाई करने जा रहें है तो यह जरूर ध्यान दें कि उस फसल में कौन से कीट का प्रकोप हो सकता है।  इसके साथ ही उस कीट से कैसे बचा जा सकता है।

विशेषज्ञों की सलाह लेना

अपने फसलों को लेकर समय – समय पर आपको विशेषज्ञ की सलाह जरूर लेनी चाहिए।  विषेशज्ञ आपको सही सलाह देंगे जिससे आप अच्छी फसल ऊगा सकते है।

बुवाई  मौसम के अनुसार,

फसल की बुवाई हम 3 समय में करते है।  खरीफ , रबी और जैद।  बीज निर्माता संगठन और कंपनियां इन मौसमों के आधार पर बीज पैदा करती हैं । इसलिए अगर आप खरीफ के समय में टमाटर ऊगा रहें है तो यह जरूर ध्यान दें कि उसका बीज खरीफ के सीजन का होना चाहिए न रबी या जैद का।   भारत में अधिकांश किसान बीज भंडार में उपलब्ध किसी भी बीज से पौधे उगाते हैं। इसके बाद, वे खराब उत्पादकता के बारे में शिकायत करते हैं । आज के समय में आप सोशल मीडिया के माध्यम से भी अपने बीजों का निर्धारण अच्छे से कर सकते है।

रेनफेड भूमि के द्वारा बीज खरीदना 

भारत को मोटे तौर पर दो क्षेत्रों-सिंचित क्षेत्र और वर्षा-निर्भर क्षेत्र में वर्गीकृत किया गया है । सिंचित क्षेत्रों में विभिन्न स्रोतों से फसल को पानी पिलाने की सुविधाएं हैं। हालांकि, वर्षा पर निर्भर क्षेत्र वे क्षेत्र हैं जो पूरी तरह से बारिश पर निर्भर हैं । इन वर्षा पर निर्भर क्षेत्रों को वर्षाफेड क्षेत्र कहा जाता है।

एक समय था जब रेनफेड क्षेत्र में खेती के लिए बहुत सीमित विकल्प थे। हालांकि, आज, भारत में कई संगठन और कंपनियां बीजों का निर्माण कर रही हैं जो मुख्य रूप से वर्षा क्षेत्रों के लिए होती हैं। इसलिए खरीदते समय वर्षा पोषित क्षेत्र के किसान को क्षेत्र के लिए बने बीज खरीदने चाहिए तभी वह पौधरोपण की उम्मीद कर सकता है। इसके विपरीत, अच्छी सिंचाई सुविधा वाले क्षेत्र में रहने वाले किसान को रेनफेड बीज खरीदने से बचना चाहिए क्योंकि यह फसल की उपज को काफी प्रभावित कर सकता है।

बीज शुद्धता अंकुरण परीक्षण 

अच्छे उत्पादन के लिए जरुरी है कि हम अच्छे बीज का चुनाव करें।  बोन के काम में लाने वाले बीज एक ही प्रजाति के होने चाहिए। इसके लिए आपको बीज का 4-5 जगह से नमूना लेना होगा उसके बाद यह सुनिश्चित करें की बीज अच्छा है या नहीं।  बीजों की अंकुरण क्षमता मानक स्तर की है या नहीं इसके लिये अंकुरण परीक्षण आवश्यक है। अंकुरण परीक्षण के लिये कम से कम 400 बीजों का 3-4 आवृत्ति में परीक्षण करना चाहिए। अंकुरण परीक्षण निम्न प्रकार से किया जा सकता है।

यदि आपके द्वारा बुवाई की हुई बीज अच्छी है तो , फसल की पैदावार भी अच्छी होगी। बीज की अशुद्धता, खरपतवारों, बीमारियों या कीड़े मकोड़ों और खराब अंकुरण क्षमता के कारण हो सकती है। बुवाई से पहले किसान भाइयों के लिए यह जरुरी है कि अलग – लग तरीके से बीजों की शुद्धता की जाँच करें।

और पढ़े-: What are Post-Emergent of Herbicides

निष्कर्ष 

आपने यहां पर जाना की अच्छे खेती के लिए बीजों का चुनाव कैसे करते है , आशा है कि किसान भाइयों को यह जानकारी पसंद आयी होगी।  आप हमारे इस ब्लॉग को अपने सोशल मीडिया के माध्यम से शेयर भी कर सकते है , जिससे और भी किसान भाइयों तक यह जानकारी पहुँच सकें।  GEEKEN CHEMICALS के माध्यम से आप अपने फसलों में लगने वाले कीटों और खरपतवार को खत्म करने के बारें में जानकारी प्राप्त कर सकते है।