IMG-20211009-WA0003-removebg-preview-1.png

बाँस की खेती को हम सभी सदाबहार पौधे के रूप में करते है , यह पौधा घास की प्रजाति का होता है , जो बहुत तेजी से बढ़ता है। दोस्तों बाँस के कुछ पौधे ऐसे भी है जो प्रतिदिन 90 सेमी तक बड़े होते है। अगर हम बाँस के पौधे की बात करें तो यह पौधा 35 % आक्सीजन का निर्वहन करता है और कार्बन डाई ऑक्साइड की मात्रा को भी कम करता है। अगर हम भारत की बात करें तो पूरे विश्व में इसका दूसरा स्थान है, वहीँ अगर चीन की बात करें तो इसका स्थान पहला है। अगर हम पूरे दुनिया की बात करें तो 14000 से भी आधी प्रजाति बांस की पाई जाती है।

भारत के वह किसान जो बंजर भूमि और जलवायु परिवर्तन की वजह से खेती नहीं कर पा रहें है ऐसे किसान बाँस की खेती करके अच्छा पैसा कमा सकते है। बांस एक तरह का ऐसा पौधा है , जिसे हम किसी भी तरह के मिट्टी में आसानी से ऊगा सकते है। आज के समय में सरकार बाँस की खेती करने वाले किसान भाइयों को सब्सिडी भी प्रदान कर रही है। ऐसे में किसान भाइयों के लिए बाँस की खेती मुनाफे का सौदा हो सकता है। आज के इस ब्लॉग में हम जानेंगे की बाँस की खेती कैसे कर सकते है और इसकी खेती करने के क्या लाभ है।

और पढ़े –: बाजरे की बुवाई कौन से महीने में की जाती है , यहाँ जानिए बाजरे की बुवाई का सबसे आसान तरीका

आप यह ब्लॉग GEEKEN CHEMICALS के माध्यम से पढ़ रहें है। हम आपके लिए कृषि से जुडी जानकारी पहुचानें का काम करते है। अगर आप अपने फसलों का बेहतर तरीके से उत्पादन करना चाहते है तो GEEKEN CHEMICALS के कीटनाशक का प्रयोग कर सकते है। हम सबसे अच्छे तरीके का कीटनाशक प्रदान करते है साथ ही बेहतर पैदावार भी देते है।

Contents

बाँस की खेती

बाँस की खेती भारत में प्रमुखता से की जाती है। बाँस के पौधे को हम एक बार लगाते है और 40 साल तक उत्पादन प्राप्त कर सकते है। अगर किसान इसकी खेती करते है तो काफी अच्छी कमाई की जा सकती है। पिछले कुछ सालों से देशभर में बाँस की खेती का ट्रेंड काफी बढ़ गया है , भारत में बाँस के पौधे को हम हरा सोना भी कहते है। अगर हम इसकी खेती की बात करें तो मेहनत कम और कमाई बहुत अच्छी हो सकती है। बांस की खेती के बारे में हम बात करें तो इसकी सबसे अच्छी बात यह है की इसकी खेती बंजर भूमि पर भी की जा सकती है। सरकार के द्वारा इसकी खेती के लिए लगातार सब्सिडी भी दी जा रही है , जो सोने पर सुहागा है।

बाँस की खेती में मिट्टी, जलवायु और तापमान

किसान भाइयों इसकी खेती के लिए हमें किसी खास तरह की मिट्टी की जरूरत नहीं पड़ती है , इसकी खेती हम किसी भी सूखे स्थान पर कर सकते है। लेकिन अगर कृषि एक्सपर्ट की मानें तो बाँस की खेती के लिए रेतीली दोमट मिट्टी सबसे अच्छी मानी जाती है। इसकी खेती के लिए जमीन का पी एच मान 4.5 से 6 के करीब होना चाहिए।

किसान भाइयों बांस के पौधे उष्ण शीतोष्ण और उष्णकटिबंधीय जलवायु में बहुत तेजी से बड़े होते है। कृषि एक्सपर्ट का मानना है कि इसका पौधा प्रति दिन 3 इंच तक बढ़ सकता है। इसके अलावा बांस के पौधे पर किसी भी तरह का खास प्रभाव नहीं पड़ सकता। अधिक ठंड और दल – दल वाली जगह पर इसके पौधे तेजी से बड़े होते है।

भारत में बाँस के पौधों की तैयारी

किसान भाइयों बांस के बीज को हम पौधे के रूप में लागतें है। इसके लिए हम सबसे पहले नर्सरी में बीज को तैयार करते है और बाद क्यारियां बनाकर लागतें है। जब भी आप इसके लिए गड्ढे को तैयार करें तो उसमें गोबर का खाद डालना न भूलें। बीज की रोपाई करने से पहले हम 8 घंटे तक इसको भिगोकर रखते है। अगर बीज ऊपर तैरते हुए दिखाई पड़ें तो उसे निकलकर फेंक दें और सतह पर बैठे बीजों की रोपाई कर दें।

बाँस के पौधों की रोपाई

इसके पौधे की रोपाई हम खाली पड़ी भूमि या फिर खेत की तरफ बाड़ की तरह करते है। इसके पौधे की रोपाई हम 5 से 10 मीटर की दूरी पर करते है। दोस्तों बाँस की रोपाई के लिए हम पहले गड्ढे तैयार करते है उसके बाद , उसमें बाँस का पेड़ लागतें है।

बाँस के पेड़ो की कटाई और पैदावार

किसान भाइयों बांस के पेड़ की कटाई हम 4 -5 साल बाद करते है। इसकी कुछ किस्म कटाई के बाद बढ़ जाती है , जिससे दोबार भी इसकी कटाई की जा सकती है। किसान भाइयों बाँस की कटाई मध्य बिंदु पर की जाती है , जिससे नई पुलियों का निर्माण अच्छे से किया जा सके। बाँस के पौधे को एक बार लगानें पर 40 -50 वर्षों तक वृद्धि देते है।

बांस की कीमत और लाभ

किसान भाइयों बांस की कीमत 100 रूपये के लगभग होती है , इसके अलावा आप इसके पत्तियों को बेच सकते है। इसके अलावा किसान अपनी खाली पड़ी हुई जमीन से अधिक उत्पादन कर सकते है। जिससे अच्छी पैदावार की जा सकती है। आज के समय में बांस की मांग बहुत अधिक है , इसलिए इससे अच्छा पैसा कमाया जा सकता है।

और पढ़े –: मिर्च की खेती करने से होगा जबरदस्त मुनाफा , जानिए मिर्च की खेती करने की विधि

निष्कर्ष

आज के इस ब्लॉग में हमनें जाना की बाँस की खेती कैसे की जाती है , आशा है कि आप सभी किसान भाइयों को हमारा यह ब्लॉग पसंद आया होगा। इसलिए आप हमारे इस ब्लॉग को अपने सोशल मीडिया प्लेटफ्रॉम पर शेयर कर सकते है। किसान भाइयों अगर आप अपने फसलों का बेहतर उत्पादन चाहतें है तो GEEKEN CHEMICALS का प्रयोग कर सकते है , अगर आप GEEKEN CHEMICALS के कीटनाशक को खरीदना चाहतें है तो कॉल (+91 – 9999570297) करें।