गन्ना हमारी प्रमुख फसलों में से एक है।  जिसका उत्पादन भारत के सभी राज्यों में होता है। उत्तर भारत में गन्ने की सबसे अधिक बुआई बसंतकाल और शरद कालीन में की जाती है। इन दोनों सीज़न में बोई फसलें इस समय खेतों में खड़ी हैं। गन्ने की फसल से भरपूर उपज पाने के लिए फसल का सही तरीके और समय से प्रबंधन करना ज़रूरी है, जिससे गन्ने की फसल से अच्छी उपज मिल सके। इसके लिए गन्ने की फसल में उर्वरक और कीट रोग प्रबंधन पर किसानों को जागरूक रहने की ज़रूरत है। लेकिन पिछले कुछ समय से हमारे किसान भाई गन्ने में लगने वाले रोग सफ़ेद गिडार के प्रकोप से बहुत चिंतित है आज हम आपको इसी सफ़ेद गिडार से जुडी जानकारी के बारें में बताएंगे।

किसान भाइयों अक्सर सफ़ेद गिडार पहली बरसात के बाद दिखाई पड़ता है।  इसका सबसे ज्यादा प्रकोप गन्ने की फसल पर होता है।  इस रोग के बारे में तथा इस रोग को ख़त्म करने के बारें में सही जानकारी नहीं मिल पानें के कारन किसान भाइयों के गन्ने की फसल अक्सर ख़राब हो जाती है।  इसके लिए सबसे पहले हमारे किसान भाइयों को जागरूक होने की जरुरत है।  यह रोग ज्यादातर वेस्ट यूपी की तरफ ज्यादा रहता है। कृषि वैज्ञानिकों के मुताबिक पिछले कई वर्षों से सफेद गिडार कीट गन्ने की फसल में  मुख्य समस्या है।

और पढ़े-:  गेंहू में सभी प्रकार के खरपतवार को इन दवाओं से ख़त्म करें

सफेद गिडार कीट गन्ना फसल पर एकल गुच्छों (कलम्प) पर हमला करते हैं। गर्मियों की पहली बौछार में सफेद गिडार के  प्रौढ़ सक्रिय होते हैं। जुलाई से लेकर सितंबर महीने के दौरान गिडार (ग्रब) सक्रिय होते हैं। गिडार (ग्रब) जड़ों को खाता है और स्तंभ (स्टाक) के भूमिगत भाग और सभी अवस्थाओं पर आक्रमण करता है। पहली बरसात के बाद गन्ने की फसल में सफेद गिडार के प्रौढ़ सक्रिय हो जाता है। इससे गन्ने की फसल के आसपास नीम, तून, जामुन आदि पेड़ पौधो में सक्रिय रहता है। पहली बारिश के बाद व जमीन पर आकर नर मादा के रूप में गन्ने की फसल को सूखा देता है। सफेद गिडार गन्ने की फसल को तीस से लेकर चालीस प्रतिशत नुकसान पहुंचा देता है। पैदावार को रोक देता है।  बरसात के मौसम में अक्सर गन्ने की फसल में रोग का प्रकोप दिखाई पड़ता है इसके बचाव के लिए आप Mustafa (Imidacloprid 17.8% SL) और Kammando (Fipronil 40% + Imidachloprid 40% WG) का प्रयोग कर सकते है।  यह सफ़ेद गिडार रोग को पूरी तरह से खत्म करने में सक्षम है , साथ ही आपकी फसल की पैदावार को बढ़ाता है।

क्या है लक्षण

सफेद गिडार गन्ने के जड़ तंत्र तथा जमीन की सतह के नीचे वाले भाग को जुलाई से सितंबर माह तक खाते रहते हैं। इसके द्वारा जड़ तंत्र के क्षतिग्रस्त हो जाने पर पौधों की पत्तियां पीली पड़कर सूख जाती हैं, जो इस कीट द्वारा की गई क्षति को  दर्शाती है। कुछ समय के बाद प्रभावित पौधे खेत में गिर जाते हैं। इसका शुरूआती आक्रमण खेत में कहीं-कहीं तथा बाद में पूरे खेत में हो जाता है। सफेद गिडार का प्रकोप इतना ज्यादा होता है कि यह कुछ ही दिनों में फसलों को पूरी तरह से चट कर देता है। मिट्टी में अंडे देने के बाद यह गिडार फिर दूसरे छोर पर चली जाती है और इसके बाद इसके बच्चे भी धीरे-धीरे गन्ने की फसल को चट कर देते हैं।

और पढ़े-: जानिए कैसे करें गेहूं की उत्तम खेती और GEE SUPER ( SULPHAUR 80 %WDG) कैसे करता है काम

क्या है रोग के प्रबंधन और बचाव

इस तरह के कीट में भृंग होते है , जो प्रथम बारिश के बाद जमीन के नीचे से उगते है और गन्ने के फसल पर उड़कर चलें जाते है। जिसके बाद ये गन्ने की फसल को धीरे – धीरे खा कर खत्म करने लगते है।  फिर कुछ दिन बाद यह जमीन के अंदर जाकर अंडे देते है , जिससे और भी फसलें प्रभावित होती है। इस तरह से कीट को बचानें के लिए किसान भाई रात्रि के समय बांस के हुक लगे डंडे से पेड़ की डालियों को हिलाकर उपस्थित प्रौढ़ों को जमीन पर गिराकर एकत्रित कर कीटनाशी मिश्रित जल में डुबाकर मार दे।  यह रोग फसल को ज्यादा प्रभावित करता है इसलिए इसे हमें 7-10 दिनों तक करना चाहिए।

सफ़ेद गिडार रोग को खत्म करने के लिए आप Mustafa (Imidacloprid 17.8% SL) और Kammando (Fipronil 40% + Imidachloprid 40% WG) का प्रयोग कर सकते है।  यह सफ़ेद गिडार रोग को पूरी तरह से खत्म करने में सक्षम है , साथ ही आपकी फसल की पैदावार को बढ़ाता है।

निष्कर्ष 

आशा है कि हमारे किसान भाइयों को यह जानकारी अवश्य पसंद आयी होगी।  आप इसी तरह से अपने खेती और उनमें लगने वाले खरपतवार और कीटों को ख़त्म करने की जानकारी के लिए GEEKEN CHEMICALS के साथ जुड़े रहें है।  आप हमारे इस ब्लॉग को अपने सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है, जिससे यह जानकारी हमारे और भी किसान भाइयों तक आसानी से पहुँच सकें और  वो अपनी फसलों की सुरक्षा कर सकें।  GEEKEN CHEMICALS किसान के हितों को ध्यान में रखकर लगातार कई वर्षों से कीटनाशक बनाता आरहा है।  आप हमारे कीटनाशक को आसानी से अपने नजदीकी स्टोर पर जाकर भी खरीद सकते है।  किसी भी तरह की अन्य जानकारी के लिए आप हमारे सलाहकार (+91 – 9999570297) पर कॉल भी कर सकते है।