IMG-20211009-WA0003-removebg-preview-1.png

किसान भाइयों केंद्र की सरकार लगातार एक से बढ़कर एक योजनाएं चला रही है। ऐसे में बहुत सी ऐसी योजनाएं है , जिससे किसान भाइयों को बहुत फायदा हो सकता है। कुछ योजनाएं ऐसी है जिससे किसान खेती-किसानी के लिए तकनीकी सहयोग प्राप्त कर सकते है। ऐसे में आज हम किसान भाइयों को बतानें जा रहें है प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के बारे में , जिसके तहत किसान साल के 6000 रूपये प्राप्त कर सकते है। यह स्किम भारत सरकार ने छोटे किसानों के फायदें के लिए चलाई है , जिससे किसान अपनी खेती को और भी बेहतर ढंग से कर सकें।

इसी बीच आज भी बहुत से ऐसे किसान है जो इस योजना के पात्र तो है लेकिन लाभ नहीं उठा पा रहें है। कई बार तो किसान भाइयों की छोटी सी गलती की वजह से भी उनके फार्म को बाहर कर दिया जाता है। लेकिन आज हम किसान भाइयों को बतानें जा रहें है की कैसे वह मात्र 15 रुपए खर्च करके फार्म में हुई गलती को सुधार सकते है और साल के 6000 रूपये आसानी से प्राप्त कर सकते है। आइये जानतें है की किसान भाइयों को कब कहा और कैसे खर्च करना होगा 15 रूपये , जिससे छूटे हुए किसान भी ले सकते है प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ।

आप यह आर्टिकल GEEKEN CHEMICALS के द्वारा पढ़ रहें है। हम आपके लिए कृषि से जुडी जानकारी पहुचानें का काम करते है। इसके अलावा आपके बेहतर फसल उत्पादन के लिए हम लगातार कई वर्षों से अलग – अलग किस्म का कीटनाशक भी बना रहें है , जिसके प्रयोग फसलों में लगनें वाले कीटों , रोगों , खरपतवार , इत्यादि को आसानी से खत्म कर सकते है। आज समय में जीकेन Top Agro Chemical Companies in India में से एक है।

किसान भाइयों आपको बता दें की पीएम किसान योजना के तहत हर साल भारत सरकार के द्वारा 6,000 रुपये प्रदान किया जाता है। यह रकम सीधे किसान के खातें में दो – दो हजार के हिसाब से 3 किस्तों में डाली जाती है। कुछ समय से सरकार ने यह रूपये उन्ही किसान भाइयों को देने का एलान किया है ,जिसनें
किस्त के लिए ई-केवाईसी यानी बैंक और आधार को लिंक करवा रखा है। आज भी बहुत से ऐसे किसान है जिन्होंने ई-केवाईसी नहीं करवा रखी है , ऐसे में इसके लिए उन्हें 15 रूपये खर्च करना होगा।

Contents

कैसे और कहाँ करवाए ई-केवाईसी

किसान भाइयों अगर अभी तक आपको किसान सम्मान निधि का लाभ नहीं मिल रहा है तो आप सीएससी या वसुधा केंद्र पर जाकर बायोमैट्रिक तरीके इसे करवा सकते है। जहां आपको इसके चार्ज के रूप में 15 रूपये देना होगा। इसके अलावा कुछ ऐसे भी राज्य है जहाँ ई-केवाईसी के पैसे नहीं देने पड़ते। किसान भाइयों आज हम आपको यह जानकारी इसलिए दे रहें है क्योंकि सरकार जल्द ही 13 वीं क़िस्त का आवंटन करने जा रही है ऐसे में अगर आपने अभी तक ई-केवाईसी नहीं करवा रखा है तो करवा लें और पीएम किसान योजना ला लाभ लें। सरकार ने साफ तौर पर कह रखा है कि इस योजना का लाभ उन किसानों को मिलेगा , जिन्होंने ई-केवाईसी करवा रखा है और जिसके दस्तावेज सही है।

क्यों करवाएं ई-केवाईसी

किसान भाइयों अब आप सोच रहें होंगे की क्या ई-केवाईसी प्रोसेस करवाना जरुरी है तो आपको बता दें की आधार कार्ड से लिंक ई-केवाईसी प्रोसेस के जरिए सरकार तक किसान किसान की जानकारी पहुँचती है। इस प्रोसेस को पूरा करने से किसान न सिर्फ पीएम किसान बल्कि, पीएम किसाम मानधन योजना, पीएम फसल बीमा योजना, केंद्र और राज्य सरकार की सब्सिडी स्कीम्स, लोन, इंश्योरेंस और फसल की ई-मार्केटिंग से जुड़े लाभ भी आसानी से लें सकते है। अगर आसान से शब्दों में कहें तो ई-केवाईसी करवानें से किसान भाइयों को ही फायदा है।

लिस्ट में चेक करते रहें अपना नाम

किसान भाइयों इस समय केंद्र और राज्य की सरकार लगातार इसका वेरिफिकेशन करवा रही है। जिसमें उन लोगों को छांट कर निकाला जा रहा है जिनके पास ज्यादा जमीन है ,अपात्र हैं, अयोग्य है, संपन्न परिवार से हैं, सरकारी कर्मचारी है या एक ही परिवार के दो सदस्य 2,000 रुपये की किस्त उठा रहे हैं तो ऐसे लोगों का नाम इस बार नहीं आएगा। अगर हालही की बात करें तो बहुत से ऐसे राज्य है जहाँ फर्जी किसान को बाहर किया गया है। इसलिए किसान भाई पीएम किसान सम्मान निधि के ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर अपना नाम चेक करते रहें।

निष्कर्ष

दोस्तों आज के ब्लॉग में हमनें जाना की पीएम किसान सम्मान निधि के लिए ई-केवाईसी कैसे और क्यों करें। आशा है कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। आप हमारे इस ब्लॉग को अपने सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है। अगर आपको फसलों से जुडी या फिर कृषि जगत से जुड़ी जानकारी चाहिए तो आप हमारे ब्लॉग को पढ़तें रहें। इसके अलावा दोस्तों GEEKEN CHEMICALS अलग – अलग तरह के रासायनिक कीटनाशक बनाता है , जिसे प्रयोग कर आप अपने फसलों की उत्पादन क्षमता को बढ़ा सकते है। अगर आप हमारे कीटनाशक को खरीदना चाहते है तो कॉल (+91 – 9999570297) करें।