GEEKEN CHEMICALS :- धान भारत की प्रमुख फसलों में से एक है , यह हमारे देश में उत्पादन किए जा रहें फसलों का एक चौथाई हिस्सा कवर करता है। चावल हमारे भारत के लोगो को प्रमुख भोजन भी है। आज के समय में दुनिया में और भी कई देश है , जो चावल की खेती प्रमुखता से करते है। गन्ना और मक्का की खेती के बाद यह दुनिया का तीसरा सबसे अधिक उत्पादन किया जानें वाला फसल है। धान प्रमुख फसलों में से एक है , जिसकी खेती 5000 साल पहले चीन में की जाती है
भारत में धान की खेती 3000 ईसा पूर्व से की जा रही है, इसको लेकर सबसे ज्यादा रोचक तथ्य यह हैं कि चावल की खोज किसी वैज्ञानिक ने नहीं बल्कि किसानों ने खुद की थी। जिस समय भारत में चावल की खेती के बारे में किसान जानकारी इकट्ठा कर रहें है वहीं चीन के लोग चावल को बाहर के देशों में निर्यात कर रहें थे। भारत में चावल की खेती हड्डपा सभ्यता के दौरान की गई थी। आज के समय में चावल की खेती भारत के प्रमुख गतिविधियों में से एक है। भारत के किसानों को इससे राजस्व और आय की प्राप्ति होती है।

आज हम इस ब्लॉग के माध्यम से बतानें जा रहें है कि भारत के वह कौन से राज्य है जहां पर सबसे ज्यादा चावल की खेती की जाती है। तो किसान भाइयों आप इस ब्लॉग को पूरा पढ़िएगा और अच्छा लगे तो शेयर भी करिएगा।

आप यह ब्लॉग GEEKEN CHEMICALS के द्वारा पढ़ रहें। हम आपके लिए कृषि जगत से जुड़ी जानकारी पहुचानें का काम करते है। अगर किसान अपने फसलों का अच्छे से पैदावार करना चाहतें है तो नियमित रूप से हमारे ब्लॉग को पढ़ते रहें। किसान इसके अलावा अपने फसलों के बेहतर उत्पादन के लिए GEEKEN CHEMICALS के द्वारा बनें प्रोडक्ट का प्रयोग कर सकते हैं।

Contents

चावल की खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी

किसान भाइयों चावल की खेती के लाइए अलग – अलग राज्यों में वहां के मिटटी के हिसाब से कहती की जाती है लेकिन चावल के लिए चिकनी काली मिट्टी सबसे अच्छी मानी जाती है। कृषि एक्सपर्ट की मानें तो इस मिटटी में जल धारण की क्षमता अधिक होती है और मिटटी में एक बार पानी देने के बाद कई दिनों तक पानी रुका रहता है। भारत की बात करें तो इसकी खेती उत्तर से लेकर दक्षिण तक के राज्यों में इसकी कहती प्रमुखता से की जाती है। वहीं धान की खेती के लिए अगर हम पी.एच. मान की बात करें तो 5.5 से 6.5 पी.एच. मान वाली जमीन में इसकी पैदावार काफी अच्छी होती है।

जलवायु और तापमान

चावल की खेती के लिए उष्ण और उपोष्ण दोनो तरह की जलवायु सबसे अच्छी मानी जाती है। भारत में किसान चावल की खेती खरीफ के मौसम में करते है। इसकी खेती भारत में ज्यादातर किसान सिंचित क्षेत्र में करते है। इसकी खेती के लिए बारिश की भी जरूरत होती है। अगर किसान चावल की खेती कर रहें है तो 100 मिलीमीटर बारिश का होना जरुरी है। वहीं धान के पौधों को सामान्य तापमान की जरूरत पड़ती है। धान का पौधा अधिकतम 35 डिग्री तापमान का सहन कर सकता है , सामान्य तापमान होने पर इसका पौधा तेजी से विकास करता है।

यह भी पढ़ें :- सेम की उन्नत खेती करने का सही तरीका , जिससे होगी ज्यादा पैदावार

भारत में सबसे ज्यादा चावल उत्पादन करने वाले राज्य

1.पश्चिम बंगाल (West Bengal)

किसान भाइयों अगर हम सबसे ज्यादा चावल उत्पादन करने वाले राज्य की बात करें तो पश्चिम बंगाल में इसकी खेती सबसे ज्यादा की जाती है। पश्चिम बंगाल में आधे से ज्यादा भूमि में चावल की खेती की जताई बाकि के जमीन में अन्य फसलें उगाई जाती है। पश्चिम बंगाल में सिंचाई की व्यवस्था भी अच्छी है इसलिए धान की पैदावार भी यहां काफी ज्यादा होती है। किसान भाइयों धान की खेती के लिए उष्ण एवं उपोष्ण जलवायु की जरुरत पड़ती है , जिससे इसकी पैदावार भी अच्छी हो सकती है। बंगाल में भी इसकी बुवाई जून और जुलाई के मौसम में की जाती है।

2. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh)

किसान भाइयों चावल का उत्पादन करने वालें राज्यों में उत्तर प्रदेश पीछे नहीं है। उत्तर प्रदेश को चावल की खेती करने के लिए दूसरा स्थान प्राप्त है। उत्तर प्रदेश में किसान इसकी खेती करके अच्छा पैसा भी कमाते हैं। यहां पर धान की खेती जुलाई – अगस्त के महीने में की जाती है। उत्तर प्रदेश में उगने वाला धान विदेशों में भी काफी फेमस है। वहीं अगर पिछले कुछ सालों की बात करें तो उत्तर प्रदेश में इसकी पैदावार में कमी देखी गई है। धान में कमी की प्रमुख वजह यहां के मौसम में बदलाव है। यहां होने वाली बे मौसम बरसात इसकी फसल को पूरी तरह से खत्म कर देती है। उत्तर प्रदेश में धान की खेती के लिए समशीतोषण जलवायु की जरूरत पड़ती है। वहीं धान की खेती के लिए मटियार एवम दोमट भूमि सबसे अच्छी मानी जाती है।

3. पंजाब (Punjab)

किसान भाइयों पंजाब पहले से ही कृषि प्रधान राज्य है , यहां की आधे से ज्यादा आबादी खेती पर ही निर्भर है। वहीं पंजाब में सबसे ज्यादा धान की खेती की जाती है , अगर भारत की बात करें तो धान की खेती के लीयते पंजाब को तीसरा स्थान प्राप्त है। पंजाब में हर वर्ष 12 मिलियन टन चावल पैदा किया जाता है। वहीं में चावल के उत्पादन के लिए अलग – अलग तरह के बीजों का प्रयोग किया जाता है। पंजाब के धान के बीज देश के अन्य राज्य के किसान भी इससे खेती करते है। अगर हम पंजाब की बात करें तो यहां पहली जुताई मिट्टी पलटनें वाले हल से की जाती है उसके बाद किसान 2 -3 जुताई कल्टीवेटर से करते है। खेत की मजबूती के लिए किसान मेड़बंदी को भी अपना सकते हैं। अगर चावल की खेती करते समय इसमें रोग, कीट, खरपतवार , इत्यादि का प्रकोप दिखाई पड़े तो किसान BEST agrochemical companies in INDIA के द्वारा निर्मित कीटनाशक का प्रयोग कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :- मिर्च की खेती करने से होगा जबरदस्त मुनाफा , जानिए मिर्च की खेती करने की विधि

4. तमिलनाडु (Tamil Nadu)

चावल की खेती के लिए तमिलनाडु भी फेमस है। तमिलनाडु के 28 जिलों में चावल की खेती किया जाता है। जिनमें से 27 ऐसे है जहां सबसे ज्यादा चावल की खेती की जाती है। तमिलनाडु का कावेरी डेल्टा क्षेत्र चावल उत्पादन के लिए सबसे ज्यादा फेमस है , देश में इस क्षेत्र को चावल के कटोरा नाम से भी जाना जाता है। यह दुनिया के सबसे ज्यादा चावल उत्पादन करने वाले जगह में से एक है। चावल के अच्छा उत्पादन होने पर यहां के किसान जश्न मानते है। किसान भाइयों पिछले कुछ समय से यहां चावल की खेती कम की जा रही है लेकिन धीरे – धीरे किसान एक बार फिर इसकी खेती की शुरुआत कर रहें है। अगर हम दक्षिण भारत की बात करें तो तमिलनाडु में सबसे ज्यादा चावल का उत्पादन किया जाता है।

5 . छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh)

किसान भाइयों चावल के उत्पादन के मायनें में छत्तीसगढ़ भी अब किसी भी राज्य से पीछे नहीं है। छत्तीसगढ़ के किसान लगातार खेती की तरफ आगे बढ़ रहें है। छत्तीसगढ़ को भी चावल का कटोरा कहा जाता है , यहां हर साल 61 मिट्रिक टन चावल पैदा किया जाता है। जो देश के चावल उतप्दान के मायनें में तीसरे स्थान पर है। धान की खेती के लिए यहां अनुकूल जलवायु होती है , इसलिए छत्तीसगढ़ भारत के प्रमुख चावल उत्पादन करने वाले राज्यों में से एक है। कृषि एक्सपर्ट बताते है कि यहां पर 20000 से अधिक धान के किस्मों की खेती की जाती है। अगर चावल की खेती करते समय इसमें रोग, कीट, खरपतवार , इत्यादि का प्रकोप दिखाई पड़े तो किसान BEST agrochemical companies in INDIA के द्वारा निर्मित कीटनाशक का प्रयोग कर सकते हैं।

निष्कर्ष :-

आज के इस ब्लॉग में हमनें जाना की चावल का उत्पादन भारत के किन पांच राज्यों में सबसे अधिक किया जाता है। आशा है कि किसान भाइयों को यह जानकारी समझ में आ गई होगी , इसलिए और भी किसान भाइयों को जागरूक करने के लिए ब्लॉग को जरूर शेयर करें। इसके अलावा अगर धान की खेती करते समय इसमें रोग, खरपतवार , कीट , आदि का प्रकोप दिखाई पड़ें तो किसान GEEKEN CHEMICALS के द्वारा बनें कीटनाशक का प्रयोग कर सकतें है। अगर किसान GEEKEN CHEMICALS के द्वारा बनें कीटनाशक का प्रयोग करना चाहतें है तो कॉल (+91 – 9999570297) करें। अब आप हमसे Youtube पर भी जुड़ सकते हैं।