किसान भाइयों आज के समय में सब्जियां भी अलग – अलग रंग में आने लगी है। किसान लेकिन इन सब्जयों में अपना मुनाफा ढूंढता है रबी की फसल हो या फिर खरीफ की किसान को अपनी लागत से मतलब होता है। आज के समय में बाढ़ , बारिश और कहीं – कहीं पर सूखा की वजह से फसल पूरी तरह से खराब हो जाती है।  हर साल किसान भाइयों को इन सब चीजों की वजह से करोडो का नुकसान होता है ऐसे में किसान अपनी परंपरागत खेती को छोड़कर भी अच्छी कमाई कर सकते है।  आज हम किसान भाइयों को एक ऐसी ही खेती की जानकारी प्रदान करने जा रहें है , जो बेहद कम समय और कम जमीन में आसानी से की जा सकती है।  इस खेती में शामिल है शिमला मिर्च की खेती , जिसे करके किसान अच्छी आमदनी के साथ बेहतर फसल का उत्पादन भी कर सकता है।  आज के इस ब्लॉग में हम आपको शिमला मिर्च के रंग के बारे में बताएंगे साथ ही यह भी बताएंगे की इसकी खेती किस तरीके से की जा सकती है।

आप यह ब्लॉग GEEKEN CHEMICALS के द्वारा पढ़ रहें है।  हम आपके लिए दवाई से जुडी जानकारी पहुचानें का काम करते है।  अगर आप बेहतर तरीके से अपने फसल का उत्पादन करना चाहते है तो GEEKEN CHEMICALS के द्वारा बने प्रोडक्ट का प्रयोग कर सकते है।  GEEKEN CHEMICALS भारत की सबसे भरोसेमंद कंपनी में से एक है।

और पढ़े –: पत्ता गोभी के खरपतवार को खत्म करने के सबसे आसान उपाय

Contents

शिमला मिर्च की खेती

शिमला मिर्च का नाम सुनते ही हमारे दिमाग में तीखे और चटपटे खाने का स्वाद दिमाग  में घुमनें लगता है।  आज के समय में भारत के हर रसोई घरों में शिमला मिर्च की सब्जी बनाई जाती है।  चाइनीज व्यंजन में स्वाद लाने के लिए भी शिमला मिर्च को डाला जाता है।  आज के समय में इसकी मांग देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी खूब है। ऐसे में किसान शिमला मिर्च की खेती करके अच्छा पैसा कमा सकते है। किसान भाइयों हमारे बाजारों में भी आपने लाल, पीली, बैंगनी, नारंगी और हरी रंग की शिमला मिर्च को देखा होगा। आयुर्वेद में भी शिमला मिर्च की खेती का वर्णन है , इसका इस्तेमाल अलग – अलग तरह के रोगों को खत्म करने के लिए किया जाता है। डॉ की मानें तो शिमला मिर्च में विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन के, फाइबर और कैरोटीनॉयड जैसे पोषक तत्व पाए जाते है।  इसके अलावा किसान हरी मिर्च से ज्यादा पैसा शिमला मिर्च की खेती करके कमा सकते है।

आखिर कितने रंग में होती है शिमला मिर्च 

किसान भाइयों आपने  शिमला मिर्च को अलग – अलग तरह के रंगो में देखा होगा , कहीं पर यह पीले, कहीं लाल, कहीं और किसी और रंग में दिखाई पड़ते है।  ऐसे में आप सोच रहें होंगे की शिमला मिर्च आखिर कितने रंग की पायी जाती है।  तो अपने किसान भाइयों को हम बता दें कि शिमला मिर्च 5 तरह के रंगों में पाई जाती है , जिसमें लाल, पीली, बैंगनी, नारंगी और हरा रंग सबसे ज्यादा फेमस है।

भारत में कहां की जाती है शिमला मिर्च की खेती 

भारत के किसान लगातर शिमला मिर्च की खेती की तरफ अपना रुख कर रहें है।  शिमला मिर्च की खेती काफी फ़ायदेवाली खेती मानी जाती है। ऐसे में  हरियाणा, पंजाब, मध्य प्रदेश, झारखंड, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक के किसान इसकी खेती को लगातार बढ़ावा दे रहे है। यह ऐसे राज्य है जहां शिमला मिर्च की खेती के लिए अनुकूल  एनवायरमेंट हैं और इसकी पैदावार भी इन राज्यों में काफी अच्छी होती है।

शिमला मिर्च की खेती कब की जाती है

किसी भी फसल के उत्पादन के लिए समय का ध्यान रखना बहुत जरुरी है।  अगर आप समय के मुताबिक खेती नहीं करते है तो फसल की पैदावार पूरी तरह से प्रभावित हो जाएगी। कृषि एक्सपर्ट की मानें तो इसकी बुवाई  जून से जुलाई, दूसरी अगस्त से सितंबर और तीसरी नवंबर से दिसंबर में आसानी से की जा सकती है।  भारत के किसानों के लिए यह काफी फायदेमंद सब्जी साबित हो सकती है क्योंकि इसकी खेती 6 महीने तक लगातार की जा सकती है।

शिमला मिर्च तैयार होने लगने वाला समय

किसान भाइयों शिमला मिर्च एक ऐसी फसल है , जिसकी बुवाई से लेकर उत्पादन होने तक ज्यादा समय नहीं लगता है। शिमला मिर्च की फसल 60 -75 दिनों में पककर तैयार हो जाती है।  किसान अगर इसकी खेती पाली हॉउस में कर रहे है तो अगस्त से सितंबर का समय सबसे अच्छा होता है।  इसकी खेती 6 महीने तक की जा सकती है।   आज के समय में शिमला मिर्च सबसे ज्यादा मुनाफा देने वाली खेती में से एक है।

कितने रुपये में मिलता है बीज

किसान भाइयों अगर आप शिमला मिर्च की बीज लेने जा रहें है तो आपको बता दूं इसके बीज हमारे बाजारों में अलग – अलग कीमत पर उपलब्ध है। इसके बीज का चुनाव बहुत ही सावधानी से करना चाहिए। कई बार बीज की वजह से पूरे खेत में खरपतवार उग जाता है ऐसे में दूसरी फसलों को बहुत नुकसान पहुंचता है।  अगर आपको इसके बीज चुनाव में दिक्क्त आरही है तो इसकी खेती करने वाले किसानों से संपर्क करना चाहिए।

शिमला मिर्च के खेत की तैयारी

किसान भाइयों शिमला मिर्च की खेती करने से पहले खेत को अच्छी तरह से तैयार करना चाहिए।  खेत को अच्छी तरह से तैयार करने के लिए पहले 2 -3 गहरी जुताई करनी चाहिए। खेत की जुताई करने के बाद कुछ दिनों के लिए धूप लगने के लिए ऐसे ही छोड़ देना चाहिए।  किसान भाइयों अगर चाहतें है कि खेत में खरपतवार कम उगे तो इसके लिए आप प्राकृतिक खाद का प्रयोग कर सकते है। गोबर की खाद को डालने के बाद खेत की फिर से गहरी जुताई कर देनी चाहिए। बुवाई के लिए अब आपका खेत तैयार है , ऐसे में किसान समय का ध्यान रखते हुए इसकी बुवाई कर सकते है।

इन रोगों से फसल को बचाकर रखिए

किसान भाइयों सबसे अंत में बात आती है फसल के सुरक्षा की , क्योंकि अगर आप फसल का सही तरीके से सुरक्षा नहीं करते है तो पैदावर भी कम होती है। ऐसे में फसल की सुरक्षा करना आपका पहला दायित्व है।  अगर हम शिमला मिर्च की बात करें तो इस फसल में भी कई तरह के रोग लगते है , जिनमें  थ्रिप्स, माइट्स, एफिड्स,पेपर मोटल वायरस, पेपर माइल्ड मोटेल वायरस, और चिली लीफ कर्ल वायरस प्रमुख है। फसलों में गर इस तरह के रोग दिखाई पड़ें तो इसकी तुरंत बचाव करनी चाहिए , जिससे फसल का उत्पादन बेहतर तरीके से हो सके।  किसान भाइयों अगर फसल में किसी भी तरह का रोग , कीट , खरपतवार इत्यादि दिखाई पड़े तो आप GEEKEN CHEMICALS के द्वारा बनें कीटनाशक का प्रयोग कर सकते है।

कितनी हो जाती है कमाई

किसान भाइयों शिमला मिर्च हमारे देश की प्रमुख फसलों में से एक है।  इसकी खेती भी भारत के बहुत बड़े भू – भाग में की जाती है।  अगर हम इस फसल के द्वारा कमाई की बात करें तो एक एकड़ में बुवाई का टोटल 4 -5 लाख तक का खर्च आता है।  ऐसे में अगर हम उत्पादन को देखे तो एक एकड़ में 15000 किलोग्राम शिमला मिर्च आसानी से प्राप्त हो जाती है।  बाजारों में भी शिमला मिर्च 50 -55 रूपये किलो तक बिक जाती है।  इस हिसाब से अगर देखा जाए तो  15000 किलोग्राम शिमला मिर्च 7,50,000 रुपये बिकेगी।  ऐसे में किसान भाइयों को 3 -4 लाख तक का मुनाफा हो सकता है।

और पढ़े –: आलू की खेती कैसे करें , यहाँ जानिए आलू की खेती करने का सही समय

निष्कर्ष 

आज के इस ब्लॉग में हमनें भारत में कहां की जाती है शिमला मिर्च की खेती इसके बारे में जानकारी प्रदान की है।  आशा है कि किसान भाइयों को यह जानकारी पसंद आई होगी। किसान भाई इसलिए हमारे ब्लॉग को शेयर करना न भूलें। किसान भाइयों आज के समय में शिमला मिर्च की खेती काफी मुनाफे वाली खेती मानी जाती है। हमारे देश में अलग – अलग राज्यों के किसान इसकी खेती करके अच्छा पैसा कमा रहें है। किसान भाइयों अगर आप इसकी खेती करने जा रहें है तो GEEKEN CHEMICALS इसमें आपकी मदद कर सकता है।  ऐसे में आप अपने फसल के बेहतर उत्पादन के लिए GEEKEN CHEMICALS के द्वारा बनें हुए प्रोडक्ट का प्रयोग कर सकते हैं।  अगर किसान भाई हमारे कीटनाशक को खरीदना चाहते है तो कॉल (+91 – 9999570297 ) करें।